भाजपा समर्थित प्रत्याशी बिरबल कुमार हारे, उप प्रधान पद पर कांग्रेस समर्थक रणजीत नेगी जीते

प्रदेश में पंचायजीराज चुनाव के पहले चरण में अधिकांश पंचायताें में मुकाबला राेचक हुआ । हालांकि जिला किन्नौर की रारंग पंचायत में प्रधान पद के लिए तीन प्रत्याशी मैदान थे, लेकिन असली जंग भाजपा समर्थक राजेंद्र नेगी और बीरबल कुमार नेगी के बीच हुई। जिसमे राजेंद्र नेगी की प्रधानगिरी चली और रारंग की जनता ने उन्हें एक बार फिर से ग्रामीण सरकार की कमान साैंप दी। दोनों प्रत्याशी बीजेपी से ही संबंध हाेने के बावजूद यहां गुटबाजी पर गाज गिरी और मतदाताओं ने राजेंद्र नेगी पर भराेसा जताते हुए मिनी संसद में सेवा करने का माैका दिया।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा से लेकर प्रदेश की जयराम सरकार पर पहुंच रखने वाले बीरबल कुमार काे रारंग गांव ने ठुकरा दिया । कारण यह भी रहा हाेगा कि बीरबल कुमार की पत्नी पिछली बार यहां की प्रधान रह चुकी हैं। इसी बजह से यहां के मतदाताओं ने हर बार एक ही परिवार काे बैकफुट पर कर दिया ।

उल्लेखनीय है कि राजेंद्र नेगी इससे पहले 2010 से 2015 तक रारंग पंचायत के प्रधान रह चुके हैं। इस पंचायत के वाेटर्स ने पार्टी काे भी साइडलाइन करने में काेई कसर नहीं छाेड़ी। राजेंद्र नेगी काे 457, बीरबल कुमार नेगी काे 260 और कांग्रेस समर्थक छेरिंग ज्ञाछाे काे 89 वाेट पड़े।

वहीं दूसरी तरफ उप प्रधान पद पर कांग्रेस समर्थक रणजीत नेगी ने जीत दर्ज की।

जंगी-थाेपन बिजली प्राेजेक्ट के खिलाफ बनेगी रणनीति

एसजेवीएन के तहत प्रस्तावित 800 मेगावाट की क्षमता वाली जंगी-थाेपन बिजली परियाेजना के खिलाफ जल्द ही रणनीति तैयार हाेगी। इसके लिए ग्राम पंचायत रारंग की नई टीम शपथ ग्रहण के बाद रूपरेखा तैयार करेगी। यह इसलिए किया जाना है क्याेंकि इस परियाेजना से सबसे अधिक नुकसान रांरग गांव काे हाेना है। यहां की प्राकृतिक जल स्त्राेत खत्म हाेने की चिंता बागवानाें काे पहले दिन से सता रही है।

Bahra University