22 जनवरी काे हाेगा जिला परिषद और बीडीसी सदस्याें के भाग्य का फैसला

प्रदेश में पंचायतीराज चुनाव के लिए अंतिम चरण की वाेटिंग वीरवार यानी 21 जनवरी काे हाेगी। जिसमे 1137 पंचायताें में सुबह 8 से दाेपहर 4 बजे तक मतदान हाेगा। पंचायत प्रधान, उप प्रधान और पंचायत सदस्याें के लिए चुनावी प्रक्रिया 21 जनवरी काे पूरी हाेगी, जबकि जिला परिषद और बीडीसी सदस्याें के लिए मतगणना 22 जनवरी काे हाेगी। कुल मिला कर पंचायतीराज चुनावी प्रक्रिया 23 जनवरी काे पूरी हाेगी।

बताया गया कि प्रदेश की 12 जिला परिषदाें में 249 पदाें के लिए 1188 उम्मीदवार मैदान में हैं। इसी तरह से बीडीसी के 1792 पदाें के लिए 6779 प्रत्याशी मैदान में हैं, जिनके भाग्य का फैसला 22 जनवरी काे हाेना है।

गाैरतलब है कि मिशन-2022 यानी अगला विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में कांग्रेस और भाजपा के लिए पंचायतीराज चुनाव साख का सवाल बन चुका है। खासकर जयराम सरकार के लिए यह चुनाव चुनाैतियाें से कम नहीं हैं। हालांकि चुनाव पार्टी सिम्बल पर नहीं हाेते हैं, लेकिन दाेनाें राजनीतिक दलाें ने अब तक के चुनावी नतीजे के बाद दावेदारी भी जताना शुरु कर दिया। काेराेना संकट के बीच अब मिनी संसद यानी पंचायतीराज चुनावाें के लिए हिमाचल में कांग्रेस और भाजपा की सियासत तेज हाे चुकी है।

कुलदीप राठाैर और कश्यप के लिए साख का सवाल

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठाैर और भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप के नेतृत्व में पहला चुनाव हाे रहा है। दाेनाें के लिए पंचायतीराज का चुनाव साख का सवाल भी बन चुका है। खासकर सत्तासीन पार्टी यानी भाजपा प्रतिनिधियाें की जीत सुनिश्चित करवाने के लिए हर संभव जाेर लगा रही है। दूसरी तरफ विपक्ष यानी कांग्रेस भी काेई कसर नहीं छाेड़ना चाहती। ऐसे में अब देखना हाेगा कि प्रदेश की 12 जिला परिषदाें पर कब्जा काैन जमाएगी?

Previous articlePOWERGRID, Himachal Govt sign pact to improve telecom connectivity
Next articleHow to Explore 7 Hills in Shimla