शिमला कॉंग्रेस की शहरी इकाई ने सब्जी मंडी सड़क पर अवैध वसूली का आरोप लगाया है और नगर निगम के अधिकारियों की मिली भक्त की आशंका जाहीर की है ।

शहरी काँग्रेस के प्रवक्ता दीपक सुंदरियाल ने आरोप लगाया की निगम ने शहर की सड़को को ठेकेदारों के हाथो गिरवी रख दिया है , ठेकेदारो द्वारा पार्किंग ने नाम पर जहां तहां शहर की जनता की ज़ेब काटी जा रही है और निगम मूक दर्शक बना हुआ है । राम बाजार वार्ड के अंतर्गत आने वाली सब्जी मंडी सड़क जो की कार्ट रोड से सब्जी मंडी पहुचने का मुख्य मार्ग है निगम की कारस्तानी के चलते शहर की सबसे महंगी सड़क बन गई है । निगम ने 10 गाड़ियो की पार्किंग को 14 लाख के ठेके पर देकर सड़क पर ठेकेदारों को अवैध वसूली के सारे अधिकार दे डाले है ।

सुंदरियाल ने निगम की कार्यप्रणाली पे सवाल उठाते हुए पूछा की ऐसी कौन से गणित के तहत 10 गाड़ियो की पार्किंग को 14 लाख के ठेके पर दिया गया है और यदि यलो लाइन के तहत यहाँ 10 गाड़ियों की पार्किंग प्र्स्तवित थी तो उस प्रस्ताव के तहत यलो लाइन क्यूँ नही लगाई गई ? यदि निगम को ठेकेदारो की अवैध वसूली की शिकायते मिली हैं तो उस पर आज तक कोई कार्यवाही क्यूँ नही की गई ?

गौरतलब है की निगम द्वारा सड़क की टायरिंग के बाद पार्किंग के लिए यलो लाइन लगाना प्र्स्तवित था व सड़क मे 10 गाड़ियों की पार्किंग व्यवस्था की जानी थी लेकिन निगम ने सड़क की पार्किंग को 14 लाख मे ठेकेदारो को दे डाला जो की अपने मुनाफे के चक्कर मे 10 गाड़ियों के स्थान पर ज्यादा से ज्यादा गाड़ियो को खड़ी करने की फिराक मे पूरी सड़क पर कब्जा कर चुके हैं । ये ही नहीं सड़क पर ऊपर गाड़ी ले जाने वालो से भी मनमर्जी की वसूली की जा रही है, 10 गाड़ियो के स्थान का ठेका 14 लाख मे अपने आप मे ही कई सवाल खड़े करता है अपना पैसा पूरा करने को ठेकदारों द्वारा अवैध वसूली होना स्वाभाविक है क्यूंकी उन्हे निगम अधिकारियों का संरक्षण मिल रहा है , राम बाजार वार्ड से कांग्रेस की पार्षद द्वारा इस मामले मे आयुकत से बार बार शिकायत करने के बावजूद स्थिति मे कोई सुधार नहीं आया है न तो कोई कार्यवाही अमल मे लाई गई है, सुंदरियाल ने कहा ।

सुंदरियाल ने दावा किया की सड़क पर ज्यादा गाड़ियों के खड़े होने से आने जाने वालो को ख़ासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है , सब्जी मंडी मे अपना सामान लाने ले जाने वाले किसान व स्थानीय लोग भी आए दिन ठेकदारों की अवैध वसूली का शिकार हो रहे हैं लेकिन निगम द्वारा किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नही की गई है ।

Picture: HW

Previous articleEnhance central funding under Rural Drinking Water Supply Projects: CM
Next articleSubstandard Road Tarring: Angers of villagers turned to Social Media
Rahul Bhandari is Editor of TheNewsHimachal and has been part of the digital world for last 15 years.