Dinesh Malhotra

शिमला: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा 21 सितम्बर को शिमला जिला के 61 चिन्हित स्थानों के प्रवासी मजदूर, झुग्गी, झोपड़ियों में रहने वाले कमजोर वर्ग के 0 से 5 वर्ष के 735 शिशुओं को पल्स पोलियो की खुराक पिलाने का लक्ष्य हासिल करने के उद्देश्य से यह विशेष अभियान चलाया जायेगा। इस दिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा गठित दल द्वारा उन बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई जाएगी जोे जनवरी और फरवरी में आयोजित इस अभियान में अपने बच्चों को पल्स पोलियो की खुराक पिलाने में असमर्थ रहे हैं ।यह जानकारी आज यहां उपायुक्त शिमला दिनेश मल्होत्रा ने टीकाकरण हेतु जिला टास्क फोर्स की बैठक के दौरान दी।

मल्होत्रा ने बताया कि शिमला जिले में इससे पूर्व वर्ष जनवरी फरवरी माह में दो बार पल्स पोलियो अभियान के दौरान अधिकांश बच्चों को लाभान्वित किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि शिमला जिला में पूर्णतया पोलियो का उन्मूलन हो चुका है तथा गत कई वर्षो से इस रोग से पीडित कोई भी मामला प्रकाश में नहीं आया है। उन्होंने बताया कि भविष्य में भी शिशुओं की इस रोग से रक्षा करने के उद्देश्य से स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभियान आयोजित किए जाते रहेंगें।

उन्होंने पोलियो उन्मूलन अभियान तथा बच्चों को होने वाली अन्य बीमारियों के उन्मूलन हेतु सरकार द्वारा प्रदान की जा रही सुविधाओं के बारे में जनता को जागरूक करने पर बल दिया।

मुख्या चिकित्सा अधिकारी शिमला दलीप कंवर ने जिले की जनता से अपीेल की है कि वे इस अभियान में 0 से 5 वर्ष तक के उन सभी शिशुओं को पोलियो की खुराक पिलाना सुनिश्चित करें जिन्हें यह खुराक किन्हीं कारणों से पिलाई नहीं जा सकी है। उन्होंने बताया कि 21 सितम्बर को आयोजित विशेष पोलियो उन्मूलन अभियान में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी शिमला जिला के चिन्हित 61 स्थानों में जाकर बच्चों को पल्स पोलियो की खुराक देंगें ।

बैठक में दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल के जिला कार्यक्रम अधिकारी डा. मनीष सूद.जिला पंचायत अधिकारी, प्रेम तांटा, जिला कार्यक्रम अधिकारी आर.पी.चैहान, डा. मनीष सूद के अतिरिक्त विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Previous articleIndia, China Sign MOU & Action Plan to Enhance Cooperation in Railway Sector
Next articleHealth Minister asks for opening of AIIMS in Himachal at the earliest
Rahul Bhandari is Editor of TheNewsHimachal and has been part of the digital world for last 15 years.