भाजपा ने राम और सरदार पटेल के नाम पर राजनीति के मुख्यमंत्री के आरोपो को नाकारा

44

प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है जिसमें मुख्यमंत्री ने भारतीय जनता पार्टी पर कभी राम के नाम से और कभी सरदार पटेल के नाम से राजनीति करने का आरोप लगाया है।

पार्टी प्रवक्ता गणेश दत ने कहा कि भगवान राम घट-2 में और हर भारतीय के मन में बसते हैं और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने जिस देश की असिमता और अखण्डता के लिए बहुत बड़ा योगदान दिया है और उन्होनें देश की 565 रियासतों को एक माला में पिरोने का काम किया है। कृतज्ञ राष्ट्र और कृतज्ञ जनमानस का यह दायित्व है कि वह अपने आदर्शों और युग पुरूषों को सदा स्मरण कर उनके बताए गए रास्ते पर चलें।

भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से पूछा है कि वह बताएं कि वह और उनकी पार्टी भगवान राम के आदर्शो के पक्ष में है या विपक्ष में, उसी प्रकार वह और उनकी पार्टी सरदार वल्लभ भाई पटेल के बारे में भी अपना दृषिटकोण स्पष्ट करें कि क्या उनकी पार्टी और वह सरदार वल्लभ भार्इ पटेल के योगदान और उनकी नीतियों से सहमत है या नहीं।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल को एक कृतज्ञ राष्ट्रभक्त के रूप में भारतीय जनता पार्टी ने उनके किए हुए कार्यों को सम्मान देने के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया है और यह हर्ष का विषय है कि पिछले कल 15 दिसम्बर को रन फार यूनिटी कार्यक्रम में 50 लाख से अधिक देशभक्तों ने दौड़ में शामिल होकर सरदार पटेल के प्रति अपनी श्रद्धा जाहिर की है। उनकी स्मृति में 182 मी0 ऊंची प्रतिमा स्थापित कर भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेता नरेन्द्र मोदी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल को विश्व के शिखर पर पहुंचाने का प्रयास किया है, इसलिए कांग्रेस पार्टी सहित अन्य दलों को ईर्ष्या करने के बजाए नरेन्द्र मोदी एवं भारतीय जनता पार्टी का धन्यवाद करना चाहिए कि उन्होनें सरदार पटेल को देश की सबसे बड़ी विरासत के रूप में स्थापित किया है।

प्रदेश भाजपा ने कहा है कि उनकी पार्टी सदा ही अपने आदर्शो और देश के लिए अविस्मरणीय कार्य करने वालों को सदा याद करती रहेगी और उन्हें सम्मान देती रहेगी, चाहे भाजपा के विपक्षियों को उससे परेशानी और तकलीफ ही क्यों न हो।