1.94 लाख उपभोक्ताओं हुए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत लाभान्वित

57

शिमला: जिला में राज्य आपूर्ति निगम द्वारा 17 करोड 5 लाख रूपये की वस्तुएं तिमाही के दौरान सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत उपभोक्ताओं को वितरित की गई। यह जानकारी आज अतिरिक्त जिलाधीश डी.डी.शर्मा ने जिला स्तरीय लक्षित सार्वजनिक वितरण कमेटी की अध्यक्षता करते हुए दी ।

उन्होंने बताया कि जिला के 1 लाख 93 हजार 487 राशनकार्ड धारकों को 525 उचित मूल्यों की दुकानों के माध्यम से विभाग द्वारा 32, 470 बी.पी.एल. परिवारों को 16706 किंवटल गेहूं व 16,156 किंवटल चावल तथा 22415 अन्तोदय परिवारों को 12,995 किंवटल गेहूं व 10,046 किंवटल चावल वितरित किए गए । जबकि 1, 31, 602 ए.पी.एल परिवारों को 31, 737 किंवटल चावल तथा 70, 498 किंवटल आटा वितरित किया गया ।

दूरदराज के क्षेत्र चिडगांव, डोडरा व क्वार में गेहूं आटा 2332 किंवटल, चीनी 494 किवं., मलका 143 किवं., उडद 118 किवं. मूंग 135 किवंटल, सरसों का तेल 35448, मिटटी का तेल 15000 लिटर, नमक 123 किंवटल व बी.पी.एल. परिवारों के लिए गेहूं 1930 किंवटल अन्तोदय अन्न योजना 1563 किवं, चावल बी.पी.एल 696 किंवटल, अंतोदय अन्न योजना 460 किंवटल अन्नपूर्णा योजना के तहत 11 किवंटल की मात्रा वर्ष 2013-14 के लिए निर्धारित की गर्इ है जिसके तहत अब तक आटा 974 किवंटल, गेहूं बी.पी.एल. 669.46 किवंटल, अंतोदय अन्न योजना के तहत गेहूं 788.42 किंवटल, चावल ए.पी.एल. योजना 422 किवंटल, बी.पी.एल 545.13 किंवटल, अंतोदय अन्न योजना 460, अंतोदय अन्न योजना के तहत 11 किंवटल जबकि लेवी चीनी 494 दाल मलका 3 किंवटल, उडद 20 किवंटल, मूंग 35 किंवटल, तेल सरसों 32640 लिटर, मिटटी का तेल 9080 लिटर, काबली चना 40 किंवटल और मिड डे मील के तहत चावल 236.88 किंवटल की मात्रा भेजी जा चुकी है ।

जिला में 22 गैस एजेंसियों के माध्यम से तिमाही के दौरान 2 लाख 36 हजार 443 गैस धारकों को 2लाख 42 हजार 820 गैस सिलेंडरों की आपूर्ति की गर्इ । जिला में 1037 विभिन्न निरीक्षण किए गए । 92 विक्रताओं को नोटिस व 538 चेतावनियां जारी की गर्इ । गम्भीर अनियमितताओं में संलिप्त विभिन्न व्यापारिक प्रतिषिठानों में घरेलू गैस प्रयोग व मिटटी तेल वितरण के लिए 1 लाख 84 हजार 764 रूप्ये का जुर्माना किया गया । उचित मूल्यों की दुकानों की अनियमितताओं के लिए 6500 रूपये का जुर्माना जब्त किया गया । बैठक में उचित मूल्यों की दुकानों को खोलने के लिए प्रचार प्रसार के उपरांत अंतिम निर्णय लेते हुए 4 दुकानों को स्वीकृति प्रदान की ।