मूक वधिर स्कूल ढल्ली ने मनाया विश्व सफ़ेद छड़ी दिवस

68

शिमला: ढली स्थित मूक वधिर स्कूल ने आज विश्व सफेद छड़ी दिवस मनाया गया जिसमे हरीश जनारथा मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए ! इस मोके पर स्कुल के डिफरेंटली एबल्ड छात्रों ने विशेष तरह के रंगारंग कार्य क्रम पेश किये और अपनी अनोखी प्रतिभा का प्रदर्शन किया ! इस मोके पर कार्येक्रम के मुख्य अतिथि हरिश जनारथा ने छात्रों में तमाम तरह की कठिनाईयों और अक्षमातों के बावजूद भी आम छात्रों की तरह सिखाने और उसे पूरा करने के ज़ज्बे को भी डिफरेंटली एबल्ड छात्रों की खूबी बताया ! जनारथा ने इन छात्रों को शिक्षा दिखा दे रहे अद्यापकों की भी सराहना करते हुए मॊओक वधिर स्कूल के ज़रिये इन छात्रों को देश का अछे नागरिक बनाये जाने और इनको अपने पैरों पर खड़ा होने के काबिल बनाये जाने के लिए उनकी तारीफ भी की !

इस अवसर पर हरिश जनारथा ने स्कूल के लिए किये जा रहे कार्यों जिसमे स्कूल तक पहुंचें वाले सड़क रस्ते की मुरामत करवाए जाने के साथ इसको मेटल कराये जाने की भी जानकारी दी ! उन्होंने यहाँ के लिए 7. 50 लाख रूपये की लागत से नयी पेयजल आपूर्ति की नई लाइन बिछाने, और सर्दियों में छात्रों को गर्म पानी की व्यवस्था के लिए सोलार गीज़र और लाईट की भी व्यवस्था किये जाने का भरोसा दिलाया ! जबकि बचों को पैदल रास्ते में किसी तरह की दिक्कत पेश न आये इसके लिए सड़क से दोनों तरफ रेलिंग की व्यवस्था करवाए जाने छात्रों को शोचाल्ये की दिक्कतें दूर करने के लिए नए शोचाल्ये निर्माण करवाए जाने के साथ साथ मूक वधिर संस्थान में लम्बे अरसे से चल रहे आई. टी विभाग को दोबारा चलाये जाने के लिए मुख्य मन्त्री के ध्यान में मामले को लाये जाने का भी आशवासन दिया ! गोरतलब है की मूक वधिर संसथान ढली में केंद्र की मदत से पहेले छात्रों को कम्प्यूटर की शिक्षा के लिए ये विभाग चलाया जाता था जो आर्थिक मद्दत बंद होने के साथ ही बंद हो गया है !

इस मोके पर जनारथा ने मूक वधिर संस्थ्ना के छात्रों एवं संस्थान के संचालक मंडल को अपनी तरफ से हर संभव मदत का भी भरोसा दिलाया और संस्थान की उन्नति के लिए सरकार से भी मद्दत दिलाने की बात कही ! ये ही नहीं हरिश जनारथा ने मूक वधिर संसथान के छात्रों के बीच पहुच कर मुख्य मंत्री की तरफ से उनके लिए भेजी शुभ कामना सन्देश भी दिया !
विश्व सफेद छड़ी दिवस के मोके अपर आयोजित कार्येक्रम के मोके पर संसथान के संचालक मंडल और प्र्धानाचार्ये श्रीमती कांता शर्मा ने जनारथा को संसथान में पेश आरही संशयों से अवगत करवाया और किये गए कामो के लिए आभार भी जताया ! कांता शर्मा ने जनारथा की तरफ से भविष्य में भी सहयोग के भरोसे को प्रेरणा भरा बताते हुए बचों के रहने के लिए होस्टल की व्यवस्था किये जाने , संसथान को चाईल्ड वेलफेयर काउन्सिल से निकाल कर सर्कार के अधीन किये जाने की मांग प्रमुखता से उठाई ! गोरतलब है की हिमाचल में सुंदरनगर और ढली में ही ऐसे दो मूक वधिर छात्रों के लिए संसथान है जबकि सुंदरनगर वाला संस्थ्नान सर्कार के अधीन है और ढली अभी भी चाईल्ड वेलफेयर काउन्सिल के अधीन है !
इस मोके पर जिला कल्याण अधिकारी ओंकार शर्मा , इंटक के जिला उपाध्यक्ष गौरव चौहान और निशेष कपरेट व् राजीव बरागटा , निशि कान्त शर्मा भी मोजूद रहे !