देश को दूसरे सर्वशिक्षा अभियान की जरूरत: अनुराग ठाकुर

82

anurag thakur

दिल्ली: भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद अनुराग ठाकुर ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के 90वें जन्मदिन पर दिल्ली में बोलते हुए कहा कि अटलजी की दूरदर्शिता के कारण ही आज देश में साक्षरता दर बढ़ी हैl अटलजी सर्व शिक्षा अभियान चलाकर गांव-गांव तक शिक्षा का प्रसार कियाl सर्व शिक्षा अभियान दुनिया का सबसे बड़ा साक्षरता कार्यक्रम थाl

पूरे देश में भारतीय जनता युवा मोर्चा ने 28 राज्यों में 1076 स्थानों पर कार्यक्रम किए जिसमें 10 लाख से अधिक बच्चों को स्कूल बैग, कांपी, कलम, किताब बांटकर स्कूल जाने के लिए प्रोत्साहित किया गयाl इस कार्यक्रम को नाम दिया गया था – स्कूल चलें हमl अनुराग ठाकुर दिल्ली की एक सेवा बस्ती तुगलक कैंप और नोएडा के एक कार्यक्रम में शामिल हुएl तुगलक कैंप में उन्होंने बच्चों से मुलाकात की और 100 से अधिक गरीब बच्चों को स्कूल बैग, कॉपी, कलम किताब और मिठाइयां बांटीl ठाकुर ने कहा कि आज देश को दूसरे सर्व शिक्षा अभियान की जरूरत हैl आज देश में अटलजी के प्रयासों से बच्चों का स्कूलों में नामांकन तो हो रहा है लेकिन विभिन्न कारणों से 12वीं कक्षा आते आते 90 फीसदी बच्चे स्कूल छोड़ देते हैंl

ठाकुर ने बच्चों और उनके अभिभावकों को कहा कि कोई भी समाज तबतक प्रगति नहीं कर सकता जब तक वो शिक्षित ना होl अटल जी ने शिक्षा के महत्व को ठीक ढंग से समझा था इसीलिए उन्होंने सर्व शिक्षा अभियान जैसा समग्र शिक्षा का कार्यक्रम शुरू किया थाl इसके तहत लड़कियों की शिक्षा, कंप्यूटर शिक्षा, स्कूल भवनों का निर्माण और बच्चों का कक्षाओं में पंजीकरण बड़ी संख्या में हुआl अनुराग ठाकुर ने कहा कि भाजपा के नेतृत्व में 2014 केंद्र में सरकार बनने पर 100 फीसदी साक्षरता सुनिश्चत करना भाजपा की पहली प्राथमिता होगीl ठाकुर ने कहा कि शिक्षा, रोजगार और सशक्तीकरण (एजूकेशन, एमंप्लाइमेंट, एंपावरमेंट (3E)) के माध्यम से ही देश का विकास संभव हैl भाजपा के नेतृत्व में बनने वाली केंद्र की सरकार यह सुनिश्चित करेगीl उन्होंने अंत में कहा कि आज चीन की साक्षरता 95 फीसदी है और दुनिया की औसत साक्षरता दर 84 फीसदी है जबकि भारत की साक्षरता दर 2011 की जनगणना के अनुसार भी 74 फीसदी हैl अगर देश को वैभवशाली बनाना है तो 100 फीसदी साक्षरता का लक्ष्य हासिल करना ही होगाl उन्होंने नारा दिया- पढ़ेगा भारत तभी बढ़ेगा भारतl