खाध सुरक्षा बिल चुनावी ड्रामा: गणेश दत्त

20

हिमाचल प्रदेश भारतीय जनता पार्टी ने हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा की गयी राजीव गांधी अन्न योजना को चुनावी ड्रामा बताया है। पार्टी प्रवक्ता गणेश दत्त ने कहा कि एक प्रकार से कांग्रेस पार्टी की सरकार ने खाध सुरक्षा बिल का ‘श्राद्ध कर दिया है।

पार्टी प्रवक्ता ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने सदा ही समाज के घर भूखे को भोजन देने का पक्ष लिया है तथा भाजपा सरकार के समय 3 दालें 2 प्रकार के तेल तथा एक नमक की थैली देकर 175 करोड़ वार्षिक की सबसीडि देकर प्रदेश के 16 लाख काडर् धारकों को सस्ता राशन उपलब्ध कराया है। पार्टी ने आरोप लगाया कि यह योजना भूखे की भूख मिटाने के बजाय वोट की भूख मिटाने के लिये लार्इ गयी है। पार्टी प्रवक्ता ने प्रदेश सरकार से पूछा है कि राजीव अन्न योजना में सरकार क्या नया करने जा रही है जिससे गरीब को खाध योजना का लाभ हो सके। पार्टी ने आरोप लगाया कि इस योजना से प्रदेश की 50 प्रतिशत आवादी सस्ते राशन से वंचित हो जायेगी। भाजपा शासन के दौरान 70 लाख आबादी तथा 16 लाख राशन कार्ड धारकों को सस्ता राशन मिल रहा था। अब यह केवल 37 लाख लोगों को मिलेगा तथा 33 लाख लोग नयी योजना से बाहर हो जायेंगे।

सरकार राजीव अन्न योजना के माध्यम से कर्इ लोगों को मिल रहे राशन को छीनने जा रही है। जो भाजपा सरकार के समय सस्ते राशन योजना का लाभ उठा रहे थे। प्रदेश भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने बिना मूलभूत ढांचा खड किये बिना, सर्वे कराये बिना तथा बिना पर्याप्त गोदामों के राजीव अन्न योजना शुरू कर प्रदेश की जनता की आखों में धूल झोंकने का प्रयाश किया है तथा कहा कि इस अन्न योजना का हश्र ‘गरीबी हटाओ नारे ज ैसा होगा तथा लोकसभा चुनाव के समाप्त होते ही कांग्रेस इस योजना को भूल जायेगी।

भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि सरकार दावा कर रही है कि वह 37 लाख लोगों को राजीव अन्न योजना के तहत सस्ता अनाज उपलब्ध करायेगी, पार्टी ने पूछा है कि क्या सरकार के पास इतनी आवादी को राशन देने के लिये गोदाम उपलब्ध है। साथ ही समाज के ऐसे वगोर्ं का चयन अब तक नहीं हुआ है जिन्हें इस योजना के अन्तर्गत लाया जाना है। कुल मिलाकर यह योजना जल्दवाजी में सोनियां गांधी को खुश करने तथा गरीब की भूख मिटाने के बजाये वोट की भूख मिटाने के लिए शुरू की गयी है जिसका अन्त कांग्रेस की पूर्व की सभी धोषणाओं की तरह ही होगा । पार्टी ने सरकार से पूछा कि इस योजना के ट्रान्सपोटर् व रख-रखाव के लिये कितनी राशि का प्रावधान किया गया है? एक समय जब प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे प्रदेश के लिये मुफत में राशन देने की बात की थी तो सरकार ने ट्रान्सपोटर् का खचेर्ं न उठा पाने के कारण हाथ खड ़े कर दिये थे।

भारतीय जनता पार्टी ने इस बात पर रोष प्रकट किया कि कांग्रेस सरकार के आते ही श्री अटल बिहारी वाजपेयी के फोटो वाले वैगो ं को डम्प कर दिया तथा प्रदेश की जनता की गाढ़ी कमार्इ के 16 लाख के बैग बर्वाद कर दिये तथा अब सोनियां, मनमोहन, वीरभद्र, बाली के फोटोयुक्त वैग बनाकर उसमें राशन देने का एक ड्रामा किया है। पार्टी ने कहा कि इस हार्इप्रोफाइल ड्रामें में सो आफ ज्यादा एवं जनता नदारद थी तब मुख्यमंत्री को कार्यक्रम में खाली कुर्सियों की ओर र्इशारा करते देखा गया है। इससे स्पष्ट है कि कांग्रेस की इस योजना पर लोगों का विश्वास नहीं था। पार्टी ने चुटकी लेते हुये कहा कि कांग्रेस सरकार ने पहले श्राद्ध को योजना शुरू कर पहले दिन ही इसका ‘श्राद्ध कर दिया है।