प्रदेश भाजपा नेता रविन्द्र सिंह रवि ने पालमपुर में पत्रकार वार्ता को संबोधित करते प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का नाम कई सरकारी योजनाओं से हटाने पर रोष व्यक्त किया है और कहा की मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह द्वारा जो नाम, स्थान बदलने का कार्यक्रम चलाया जा रहा है वह अति निंदनिय है, जिन नेताओं ने देश के लिए अपना पूरा जीवन लगा दिया हो उनके किसी परियोजना से नाम बदलना ठीक सीख नहीं देता हैl

रविन्द्र सिंह रवि ने कहा कि अटल वर्दी योजना, अटल 108, व राशन थैलियों से नाम हटाना सही नहीं हैl उन्होंने चेताया की प्रदेश सरकार का इस तरह का निर्णय कुंचित राजनीति से प्रेरित है और इस तरह के काम करके एक नयी राजनैतिक प्रतिस्पर्धा को जन्म दे रही है जिसका दूरगामी परिणाम कांग्रेस के लिया ही ठीक नहीं होगाl उन्होंने कहा की देश में सेंकडो योजनायें कांग्रेस के नेताओं के नाम पर चल रही है तो भाजपा की तरफ से तो कभी इस तरह की नाम बदलने की मांग नहीं रखी। उन्होंने कहा की भविष्य में भाजपा सरकार भी इस तरह के कदम उठा सकती हैl

रवि ने प्रदेश में कांग्रेस द्वारा संचालित सरकार के काम करने के तरीके पर भी सवाल उठाये और कहा की प्रदेश सरकार जिस तरह से चल रही है लग रहा है कि एक बीमार सरकार काम कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया की अभी तक कोई भी विकास कार्य सामने नहीं आया है।उन्होंने कांग्रेस सरकार से प्रशन पूछा है की किस तरह के काम अभी तक पिछले दो महीनो में सरकार ने किये है, उसकी जानकारी जनता को देंl पूर्व मंत्री ने कहा की सिर्फ नाम बदलने से प्रदेश का विकास नहीं होगा बल्कि उन्हें वास्विक में जनता के हित में फैसले लेने होगे और बिना किसी पक्षपात के काम करना होगा।

भाजपा नेता ने योग गुरू बाबा रामदेव को दी गयी भूमि को अधिग्रहित करने पर भी कांग्रेस सरकार पर कड़ा एतराज जताया है और कहा की योगपीठ को दी गई ज़मीन का फायदा स्थानिया लोगों को ही था जिससे उनकी ज्यादातर पैदावार को घर पर ही उचित दाम मिलने थे और लोगों की आर्थिकी सुदृढ़ होनी थी।

Previous articleMedical officers Association demands making casualty department functional in all Zonal and Regional hospitals
Next articleShimla Press Club welcomes Members of Lahore Press Club and Chandigarh Press Club
The News Himachal seeks to cover the entire demographic of the state, going from grass root panchayati level institutions to top echelons of the state. Our website hopes to be a source not just for news, but also a resource and a gateway for happenings in Himachal.